/पद्मावती फिल्म के खिलाफ आंदोलन अब जनाक्रोश में बदल गया

पद्मावती फिल्म के खिलाफ आंदोलन अब जनाक्रोश में बदल गया


बॉम्बे में बैठे कलाकार, प्रोड्यूसर व अन्य को महाकाल सेना की चेतावनी बयानबाजी से बाज आएं-पूरे देश में फिल्म को बैन करने की मांग
उज्जैन। महाकाल सेना ने मध्यप्रदेश और उत्तरप्रदेश के बाद पूरे देशभर में पद्मावती फिल्म को बैन करने की मांग की है। साथ ही चेतावनी दी है 1 साल से पद्मावती फिल्म के खिलाफ चल रहा आंदोलन अब जनाक्रोश में बदल गया है, मुंबई में बैठे कलाकार, प्रोड्यूसर और संजय लीला भंसाली के पक्षधर बयानबाजी से बाज आएं अन्यथा वे अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहें।
महाकाल सेना गुजरात के संस्थापक संजयसिंह राठौर ने सोमवार को पत्रकारवार्ता में कहा कि संजय लीला भंसाली की पद्मावती के रूप में चौथी गलती है, हर फिल्म विवाद में रहती है। वे खुद विवाद खड़ा करते हैं कलाकारों के जरिये। इस बार घूमर गाने का विरोध भी पूरे देश में हुआ। रानी पद्मावती ने कभी घूमर नहीं किया, यदि एक गाने में ही इतिहास को तोड़ दिया तो पूरी फिल्म में क्या किया होगा। बॉम्बे में बैठकर टीवी पर बोल रहे हैं कलाकार, प्रोड्यूसर, जब भी गुजरात में आएंगे उन्हें गुजरात के युवा छोड़ेंगे नहीं। यूपी, एमपी में बैन लग गया लेकिन पूरी फिल्म पूरे देश में बैन होनी चाहिये। यदि यह फिल्म बैन नहीं हुई तो इसके परिणाम कुछ अलग आएंगे। विरोध 1 वर्ष से चल रहा है जो जनआक्रोश में परिवर्तित हो गया है। पत्रकारवार्ता में अखिल भारतीय राजपूत युवा संगठन के प्रदेश अध्यक्ष ठाकुर मनोज सिंह परमार, प्रदेश सचिव सुमेरसिंह सोलंकी, उपाध्यक्ष ठाकुर गणेशसिंह सोलंकी, प्रकाशसिंह राणा, ठाकुर भरतसिंह सोलंकी भी उपस्थित थे।