/भगंदर का उज्जैन में लेजर पध्दति से हुआ ऑपरेशन

भगंदर का उज्जैन में लेजर पध्दति से हुआ ऑपरेशन

8 साल और 31 सालों से परेशान मरीजों का बिना चीरा और बिना टांके लगाए हुआ ऑपरेशन


उज्जैन। शहर के श्री गुरूनानक अस्पताल में डॉ. उमेश जेठवानी द्वारा भगंदर
(फिस्टुला) का बिना चिरा और टांके लगाए लेजर द्वारा ऑपरेशन किया जा रहा
है। जिससे मरीज को दर्द नहीं होता और न ही खून बहता है और ऑपरेशन के बाद
अगले ही दिन अस्पताल से छुट्टी कर दी जाती है। पहले इस प्रकार के ऑपरेशन
इंदौर, मुंबई, दिल्ली जैसे बड़े शहरों के कारपोरेट अस्पतालों में अधिक
खर्च में होते थे लेकिन अब शहर के श्री गुरूनानक अस्पताल में बहुत कम
खर्च में इस प्रकार के ऑपरेशन की सुविधा उपलब्ध है।
कनीराम उम्र 45 वर्ष निवासी आशाखेड़ी इंदौर 8 वर्ष से भगंदर की समस्या से
परेशान थे। जिसके लिए मरीज ने उज्जैन और बड़ौदा में 6 ऑपरेशन कराए बावजूद
आराम नहीं मिलने पर परिजन उन्हें फ्रीगंज स्थित श्री गुरूनानक अस्पताल
में लेकर आए जहां पर डॉ. उमेश जेठवानी ने जांच में पाया कि मरीज को गुदा
में एक साथ कई भगंदर (मल्टीपल फिस्टुला इन एनो) हो गए हैं जो कि एक गंभीर
अवस्था है। डॉ. उमेश जेठवानी ने मरीज का लेजर पध्दति से ऑपरेशन किया
जिसके बाद मरीज अब पूरी तरह स्वस्थ है और पहले की तरह सामान्य जीवन जी
रहा है।
किशोर चौहान उम्र 52 वर्ष निवासी उज्जैन 31 सालों से भगंदर (फिस्टुला) की
समस्या से परेशान थे। कई जगह इलाज कराने के बावजूद आराम नहीं पड़ने पर
परिजन उन्हें फ्रीगंज स्थित श्री गुरूनानक अस्पताल में लेकर आए जहां पर
डॉ. उमेश जेठवानी ने मरीज का लेजर पध्दति से ऑपरेशन किया। अब मरीज पूरी
तरह स्वस्थ है और 31 सालों पुरानी समस्या से निजात पा चुका है।